Sunday, April 25, 2010

शायरी 12

हर इन्सान में खुदा है .....
ये सच पहचान पाए कोई....
दुःख मिलने से रोता है हर इंसान...
मुस्कराते हुए किसी को सह पाए कोई ...

देखने को नहीं मिलेगें खुदा लोगों को ...
क्योकि लोग जीते है सिर्फ खुद के लिए ...
सिर्फ पैसों की तलाश है हर इंसान को ....
खुदा खुद हाज़िर भी हो...
तो किसके लिए ????

8 comments:

  1. pichli peedhiyan agli peedhiyon ko jo de rahi hai wo le rahi hai...paise ki keemat bachche ko bachpan se samjhayi jaati hai...khuda to waise bhi marne ke baad hi milega..yahan to paisa hi khuda hai...aisa hi hame bataya aur samjhaya jata hai

    ReplyDelete
  2. हमेशा की तरह उम्दा रचना..बधाई.

    ReplyDelete
  3. हमेशा की तरह उम्दा रचना..बधाई.

    ReplyDelete
  4. Acchaa hai ki tumhey jawaab mil gayaa. Mein lekhan mein kaaphi vyast rehti hun, is liye jawab nahi deti hun, jyaadatar!
    tum mere sh'er post kar saktey ho,lekin dhyaan rahe ki mera naam unkey nichey zaroor aaye.

    Likhtey raho!
    Abha

    ReplyDelete
  5. हर इंसान में खुदा है ..
    काश! यह समझ पाता आज का इंसान तो यह पृथ्वी स्वर्ग होती ....
    ... पैसा ही तो है जिसके लिए इंसान मरा जा रहा है ..
    उम्दा प्रस्तुति के लिए हार्दिक शुभकामनाएँ ..

    ReplyDelete
  6. aap sab ke reply ke liye shukriya

    ReplyDelete
  7. aur mai sher sare khud nahi likhta hu
    par meri koshis rehti hai ki koi bhi kahi se bhi jo acha sher ho aap tak pohchau

    ReplyDelete